बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद देवरिया व आसपास के अन्य जिलों में भी बढ़ी सतर्कता, अधिकारियों को दिए गये निर्देश पक्षियों का सर्विलांस शुरू

देवरिया। देवरिया में मृत मिले 05 कौऐ और 01 बगुले में भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) ने बर्डफ्लू पॉजिटिव होने की पुष्टि कर दी है। शनिवार को देवरिया के प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट मिलने के बाद मंण्डलायुक्त गोरखपुर जयंत नार्लिकर ने मण्डल के सभी जिलों को बर्डफ्लू से सतर्कता व बचाव हेतु सभी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

जनपद स्तरीय टास्क फोर्स, रैपिड रिस्पान्स टीम से समन्वय बनाते हुए उन्हें किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सतर्क किया गया है। जिला मुख्यालय पर स्थापित कन्ट्रोल रूम में पक्षियों के मरने की आने वाली सभी सूचनाओं को गंभीरता से लेने का आदेश दिया गया है। जिले में कुक्कुट,बत्तख प्रक्षेत्रों एवं प्रवासी पक्षियों का सर्विलांस किया जा रहा है। जनपद के जिला मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ डीके शर्मा ने जिले के सभी 19 ब्लाको में पशुपालन विभाग के अधिकारियों की रैपिड रिस्पांस टीम गठित की है। पशुपालन विभाग के चिकित्सकों की टीम ग्रामीणों को जागरूक भी कर रही है।

बताया जा रहा है कि पक्षियों की किसी भी प्रकार की असामयिक बीमारी एवं मृत्यु की दशा में तत्काल पशुपालन विभाग के स्थानीय अधिकारियों को सूचित करें। जिले में बैकयार्ड पाल्ट्री, पोल्ट्री फार्म, पोल्ट्री दुकान, बाजार ऐसे पोखरे या तालाब जहां प्रवासी पक्षियों का आवागमन होता है, सर्विलांस किया जा रहा है। नगर निगम और पंचायती राज विभाग ने अपने सफाई कर्मियों को भी मृत मिलने वाले पक्षियों की तत्काल सूचना देने के निर्देश दिए हैं।

पोटल्ट्री फार्मो से 60 नमूने भेजे

जिले में पशुपालन विभाग ने अब तक 45 पोल्ट्री फार्मो का निरीक्षण कर 60 नमूने एकत्र कर मण्डलीय लैब के जरिए भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान बरेली भेजा हैं। इनकी जांच रिपोर्ट में बर्डफ्लू की कोई शिकायत नहीं मिली है।

वन विभाग और प्राणी उद्यान भी बरत रहा सतर्कता
गोरखपुर वन प्रभाग एवं शहीद अशफाक उल्ला खॉ प्राणी उद्यान के अधिकारियों की टीम, प्राणी उद्यान परिसर, रामगढताल, चिलुआताल, विनोद वन, सरूआताल, परगापुर ताल, सहित जिले के सभी ऐसे तालाब जहां प्रवासी पक्षियों का आवागमन रहता है, वहा की निगरानी रखी जा रही है। फिलहाल गोरखपुर जिले के वाइल्ड बर्ड के कोई सेम्पल अभी नहीं भेजे गए हैं। प्राणी उद्यान के पशु चिकित्सक डॉ योगेश प्रताप सिंह ने बताया कि जल्द ही वेटलैंड का नमूना एहतियातन जांच के लिए आईवीआरआई भेजा जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button