पिता के आदर्शों पर चलकर मिल रही ख्याति

स्व. रामचन्द्र मद्धेशिया

भलुअनी (देवरिया) । पितृपक्ष अपने पूर्वजों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने का पुनीत अवसर है । इसी अवसर पर भलुअनी निवासी सन्तोष मद्धेशिया ने अपने स्व. पिता रामचन्द्र मद्धेशिया को याद करते हुये बताया कि पिता के सिखाये आदर्शो पर चलकर ही आज इस मुकाम तक पहुँचा हूँ । बचपन से ही देखता था पिता जी किसी पर अन्याय होते नही देख सकते थे, हमेशा ईमानदारी और सिद्धांतों का पाठ हमे पढ़ाया । किसी की परेशानी देखते थे तो तुरन्त मदद करते थे । पिताजी ने हमें हमेशा नैतिकता व सिद्धान्तों पर कायम रहकर ईमानदारी पूर्वक दूसरों की सेवा करने की सीख दी । आज उनके संघर्षों की वजह से ही हमारा अस्तित्व है । आज उनकी सीख व प्रेरणा से ही उनका अनुसरण करते हुये हम स्वच्छ भलुअनी स्वस्थ भलुअनी “यूथ ब्रिगेड” के संरक्षक के रूप में सामाजिक कार्यों के साथ साथ लोंगों की सेवा कर रहे हैं । पिताजी ने हमें हमेशा यही सिखाया की निर्धनता में जीवन जी लेना पर चोरी, बेईमानी या कोई गलत कार्य करके पैसे मत इकट्ठा करना, क्योंकि सम्मान से बढ़कर रुपये नही होते । उनकी बातें हमेशा हमे याद रहती है, हमें गर्व होता है कि हम उनके पुत्र हैं जिन्होंने कभी अपने सिद्धांतों से समझौता नही किया । उनके आदर्शों पर चलना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है । कठिन परिस्थितियों में उनकी दी हुयी सीख को याद करके आगे बढ़ जाता हूँ ।

सन्तोष मद्धेशिया

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button