कई राज्यों के वार्षिक बजट से अधिक का गन्ना मूल्य भुगतान किया यूपी सरकार ने : सीएम योगी

मुंडेरवा और पिपराइच चीनी मिलों में सल्फरलेस शुगर प्लांट का सीएम योगी ने किया उद्घाटन

गोरखपुर । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना कालखंड में भी प्रदेश की 119 चीनी मिलों को चलाकर हमने 1.12 लाख करोड़ रुपये के गन्ना मूल्य का रिकॉर्ड भुगतान किया। इसके पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। कई राज्यों का इतना वार्षिक बजट भी नहीं है, जितनी धनराशि का भुगतान हमने अब तक के कार्यकाल गन्ना किसानों को दिया। सीएम योगी ने बुधवार को यह बातें उत्तर प्रदेश राज्य चीनी एवं गन्ना विकास निगम लिमिटेड की मुंडेरवा और पिपराइच चीनी मिलों में सल्फरलेस शुगर प्लांट का उद्घाटन करते हुए कहीं। खराब मौसम में कम दृश्यता के चलते मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर मुंडेरवा में न उतर पाने के कारण उन्होंने पिपराइच चीनी मिल परिसर से ही दिनों चीनी मिलों के नए सल्फरलेस प्लांट का ऑनलाइन उद्घाटन किया। पिपराइच चीनी मिल परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिपराइच व मुंडेरवा की मिलें प्रदेश में पहली होंगी जहां सल्फरलेस, रिफाइंड चीनी का उत्पादन होगा। यह रिफाइंड चीनी दुनिया के बड़े बड़े होटलों, चिकित्सालयों व अन्य संस्थानों में पहुंचेगी। पूर्वी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों की इससे नई पहचान बनेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश का हरेक कस्बा किसी न किसी चीनी मिल पर आधारित रहा है। इन मिलों से क्षेत्र के विकास, रोजगार और नौकरी की उम्मीदें जुड़ी रहती थीं। पिछली सरकारों ने साजिश के तहत 21 चीनी मिलों को बेचकर धन का लूटखसोट किया। 2017 में भाजपा की सरकार आने पर हमने चीनी मिलों के आधुनिकीकरण एवं चलाने का कार्य किया। पिपराइच व मुंडेरवा की चीनी मिलें इसी कड़ी में शामिल हैं। सीएम योगी ने कहा कि पिपराइच में 1932 में एक निजी क्षेत्र की चीनी मिल लगाई गई, 1974 में उसका अधिग्रहण हुआ लेकिन मिल 1999 में बंद हो गई। इसी तरह बस्ती के मुंडेरवा में भी निजी क्षेत्र की चीनी मिल 1932 में लगी, 1984 के अधिग्रहित हुई लेकिन 1999 में यह भी बंद हो गई। सीएम ने कहा कि जब इन दोनों चीनी मिलों की जगह हमने नई मिल शुरू की तो विपक्षी लोगों ने तमाम अफवाहें फैलाई। पुरानी मिल एक वर्ष में 12 लाख क्विंटल गन्ना पेराई करती थी जबकि नई दोनों चीनी मिलों ने एक साल में चार गुना अधिक, 45-45 लाख क्विंटल गन्ना की पेराई की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि औने पौने दाम पर चीनी मिलों को बेचने के आदी विपक्ष के लोग यह समझ ही नहीं पा रहे कि नई चीनी मिलें कैसे बन जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कोई माई का लाल इन चीनी मिलों को बंद नही कर सकता।

दुनिया तक पहुंचेगी पूर्वी उत्तर प्रदेश की मिठास, पिपराइच व मुंडेरवा की होगी ब्रांडिंग

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिपराइच व मुंडेरवा में उत्पादित रिफाइंड चीनी के जरिये पूर्वी उत्तर प्रदेश की मिठास पूरी दुनिया में पहुंचेगी। इससे पिपराइच व मुंडेरवा की ब्रांडिंग भी होगी। इस दौरान उन्होंने मौके ओर मौजूद गोरखपुर के सांसद व अभिनेता रवि किशन से मुखातिब होते हुए कहा कि लाल दंत मंजन के ब्रांड के प्रचार के लिए रवि किशन रुपया लेते हैं, फ्री में प्रचार नहीं करते। लेकिन पिपराइच व मुंडेरवा के गन्ना किसानों की चीनी की ब्रांडिंग सरकार के माध्यम बै होगी, वह भी बिलकुल फ़्री।

चीनी उत्पादन तक सीमित न रहें, गन्ना जूस पैकिंग जैसे विकल्प पर भी दें ध्यान

सीएम योगी ने गन्ने के अन्य उत्पादों को लेकर भी युवाओं को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि मिलों के जरिये चीनी उत्पादन तक सीमित रहने की बजाय गन्ना जूस पैकिंग व अच्छी गुणवत्ता के गुड़ के उत्पादन का विकल्प भी अपनाया जा सकता है। कहा कि जॉन्डिस में गन्ने के जूस की बहुत मांग रहती है। गन्ने के जूस की पैकिंग पर नई तकनीक पर ध्यान दिया जाए तो बहुत से युवाओं को रोजगार मिल सकता है।

अन्य चीनी मिलों को भी चलाएंगे

सीएम योगी ने कहा कि उनकी सरकार प्रदेश में बंद पड़ी अन्य चीनी मिलों को भी चलाएगी। इसके लिए अधिकारियों को प्रयास करने के निर्देश दिये गए हैं। कोरोना का प्रकोप थमते ही इस कार्य में तेजी आएगी।

पीएम मोदी के नेतृत्व में मजबूती से आगे बढ़ रहा है देश

पिपराइच चीनी मिल परिसर में आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि कोरोना कालखंड में पीएम मोदी की अगुवाई में देश सुरक्षित रहा। गरीबों तक खाद्यान्न पहुंचा, प्रवासियों को सुरक्षित उनके घर तक पहुंचाया गया। समाज के अंतिम पायदान तक के व्यक्ति की सुध ली गई। उन्होंने कहा कि आजादी के 60-65 सालों तक उतना काम नहीं हुआ, जितना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 6 वर्ष के कार्यकाल में हुआ है। पीएम फसल बीमा, सिंचाई, पर ड्राप मोर क्रॉप, मृदा परीक्षण, गन्ना से एथनॉल बनाने, डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य व प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि जैसी योजनाएं इसकी प्रमाण हैं। देश का बच्चा बच्चा, नौजवान, किसान, महिलाएं यानी हर तबका मोदी जी के साथ है। यही वजह है कि देश की जनता ने कल के भारत बंद को फ्लॉप शो घोषित कर दिया।

कांग्रेस व सपा पर कसा तंज

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा व कांग्रेस पर करारा तंज कसा। उन्होंने कहा पीएम किसान सम्मान निधि योजना पर सपा के लोग यह कहकर दुष्प्रभाव करते थे कि चुनावी शिगूफा है, चुनाव बाद बन्द कर देंगे। योगी ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि यह सपा का लैपटॉप नही है जो देकर वापस ले लिया जाएगा। सीएम ने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि का शुभारंभ पीएम नरेंद्र मोदी ने गोरखपुर के फर्टीलाइजर मैदान से किया था। इस वर्ष यूपी के 2.20 करोड़ किसानों को 4443 करोड़ रुपये की किश्त मिली है। इसी क्रम में कांग्रेस की कार्यशैली को कटघरे में खड़ा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के शासन में केंद्र से चला 100 रुपया किसान तक पहुंचते 10 रुपया हो जाता था, 90 रुपये दलाल खा जाते थे। मोदी सरकार ने तकनीकी की ऐसी व्यवस्था कर दी है कि एक क्लिक में पूरा पैसा किसान के खाते में पहुंच जाता है। दलाली पर रोक लगने से परेशान लोग ही साजिशन सरकार को बदनाम करने के कुचक्र में हैं।

स्वास्थ्य व चिकित्सा सेवाओं में बेहतरी का भी किया जिक्र

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले पूर्वी उत्तर प्रदेश में प्रति वर्ष 600 से 1500 बच्चे इंसेफेलाइटिस के चलते दम तोड़ देते थे। वर्तमान सरकार ने कोरोना के साथ ही इंसेफेलाइटिस को भी काबू में किया। इस वर्ष इंसेफेलाइटिस से मृतकों की संख्या 21 से 25 के बीच है। जो बीआरडी मेडिकल कॉलेज बंद होने जा रहा था, उसे मजबूत किया गया है। गोरखपुर में एम्स खुल गया। सरकार देवरिया, कुशीनगर, बस्ती, सिद्धार्थनगर में मेडिकल कॉलेज खोल रही है।

24 करोड़ जनता है मेरा परिवार

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि हमने प्रदेश को जाति, पंथ या मजहब के आधार पर नहीं बांटा। हमारे लिए कोई एक परिवार महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि प्रदेश की 24 करोड़ जनता मेरा परिवार है।

इनकी रही सहभागिता

पिपराइच में आयोजित कार्यक्रम में सांसद रवि किशन, विधायक महेंद्र पाल सिंह, फतेह बहादुर सिंह, विमलेश पासवान, संगीता यादव आदि की मौजूदगी रही। जबकि यहीं से ऑनलाइन हुए मुंडेरवा चीनी मिल के कार्यक्रम में मुंडेरवा से गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा, गन्ना विकास राज्य मंत्री सुरेश पासी, बस्ती के प्रभारी मंत्री मोती सिंह, उद्यान मंत्री श्रीराम चौहान, बस्ती के सांसद हरीश द्विवेदी, सिद्धार्थनगर के सांसद जगदम्बिका पाल, बस्ती जनपद के विधायकगण, अपर मुख्य सचिव गन्ना संजय भुसरेड्डी आदि जुड़े।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button