देवरिया सदर विधानसभा सीट से प्रत्याशी रहे अभयनाथ त्रिपाठी बसपा से निष्कासित

बसपा ने लगाया पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप

देवरिया। देवरिया सदर विधानसभा सीट से बसपा के प्रत्याशी रहे अभयनाथ त्रिपाठी को बसपा से निष्कासित कर दिया गया है। बसपा जिलाध्यक्ष नीतीश कुमार ने शुक्रवार की शाम को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी जानकारी दी। जिलाध्यक्ष ने बताया की पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में यह कार्यवाही की है। उधर बसपा प्रत्याशी रहे अभयनाथ त्रिपाठी ने कहा की चुनाव हारने के बाद ही हमने बसपा छोड़ दी थी।

देवरिया में अचानक बदले घटना क्रम में सदर विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी रहे अभयनाथ त्रिपाठी को शुक्रवार को बसपा ने पार्टी से निष्कासित कर दिया । सदर सीट पर उपचुनाव में मिली करारी हार को बसपा पचा नही पाई है। इस हार का ठिकरा पार्टी ने प्रत्याशी के सर फोड़ दिया । अभयनाथ त्रिपाठी देवरिया सदर सीट से 2017 में भी पार्टी के प्रत्याशी रहे। 2017 के चुनाव एवं 2020 के उपचुनाव में उनको हार का सामना करना पड़ा बल्कि पार्टी को तीसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा। इस उपचुनाव में भी पार्टी का मत प्रतिशत में गिरावट आई । 2017 के विधानसभा चुनाव में प्राप्त मतो के अपेक्षा इस उपचुनाव में लगभग 7 हजार कम मत मिले है। उपचुनाव में पार्टी को महज 22069 वोट ही मिले थे। बसपा को मिली करारी हार के बाद से ही यह अनुमान लग रहा था । पार्टी ने प्रत्याशी के उपर ही गंभीर आरोप लगाते हुए अभयनाथ त्रिपाठी को बसपा से निष्कासित कर दिया। जिलाध्यक्ष द्वारा जारी पत्र में उनके उपर अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होना पाया गया।

पार्टी के गलत नीतियों के चलते दिया बसपा से इस्तीफा- अभयनाथ त्रिपाठी

बसपा ने एक तरफ अभय नाथ त्रिपाठी को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आधार पर बसपा से निष्कासित किया वही बसपा प्रत्याशी रहे अभय नाथ त्रिपाठी ने जारी एक बयान में कहा है कि विधानसभा देवरिया सदर उपचुनाव 2020 बीएसपी की गलत नीतियों एवं कोऑर्डिनेटरों के मानसिक व आर्थिक प्रताड़ना की वजह से अपनी दोबारा पराजय के कारण पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देता हूं|
देवरिया की जनता व बीएसपी के आम कार्यकर्ताओं के हित में यह निर्णय ले रहा हूं और मैं देवरिया की जनता की सेवा में निरंतर कार्य करता रहूंगा । बीएसपी ने मेरी सरकारी सेवा के समर्पण और त्याग को भी उपेक्षित किया है जनता भविष्य में इसका जवाब देगी। देवरिया का विकास व जनता का सम्मान मेरी राजनीति का मूल उद्देश्य है।
बीएसपी की स्थापना जिस उद्देश्य से मान्यवर कांशी राम साहब ने की थी उस मूल उद्देश्य से बीएसपी भटक गई है, बीएसपी की मुखिया अब केवल परिवारवाद व निजी स्वार्थ पर काम कर रहीं हैं ऐसी स्थिति में पार्टी को छोड़ना ही मेरे लिए हितकर होगा ।इसी के साथ में जनता को प्रणाम करते हुए बीएसपी से अपना रिश्ता तोड़ता हूं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button