जेल भेजे गये चारो बदमाश

देवरिया। शहर के कोआपरेटिव चौराहे के पास से सोमवार को गिरफ्तार हुए बिहार के शातिर चारों बदमाशों को पुलिस ने जेल भेज दिया। बदमाशों के पास से तीन देसी तमंचे भी बरामद हुए हैं। बदमाशों के खिलाफ पुलिस ने हत्या के प्रयास समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। इन बदमाशों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की भी पुलिस तैयारी कर रही है। सोमवार को कोआपरेटिव चौराहे के समीप से एसओजी (स्पेशल आपरेशन ग्रुप) टीम ने कार सवार चार बदमाशों को पकड़ा। देर रात पूछताछ में बदमाशों ने अपना नाम डब्लू सिंह उर्फ चंद्रभूषण पुत्र जितेंद्र सिंह, बृजेश सिंह पुत्र वशिष्ठ सिंह निवासी छितनपुर थाना आसाव, विशाल सिंह पुत्र हृदयानंद सिंह निवासी पिपरा थाना आंनदर जिला सिवान व राहुल कुमार पुत्र सूर्यभान सिंह निवासी रैपुरा थाना जिरादेई जिला सिवान बताया। तलाशी के दौरान बदमाशों के पास से तीन तमंचा, छह कारतूस बरामद किए गए। बदमाशों ने पूछताछ में बताया कि जिस कार से वह आ रहे थे, वह प्रयागराज के सिविल लाइन रोड से चोरी किए थे। इस मामले में एसओजी प्रभारी गिरिजेश तिवारी की तहरीर पर बदमाशों के खिलाफ कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। गिरोह का मास्टर माइंड डब्लू सिंह है। यह सिवान, बलिया व झारखंड में भी जेल जा चुका है। 15 सितंबर को ही जेल से छूटा है।

पुलिस पर गोली चलाने की थी बदमाशों की योजना

पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि अगर टीएसआइ आगे से नहीं घेरते तो वह भाग जाते। अगर पुलिस सख्ती नहीं दिखाती तो फायर भी कर देते। उनकी योजना में पुलिस पर फायर करना भी था। इतना ही नहीं, रविवार को बलिया एसओजी की गाड़ी में इन बदमाशों ने ठोकर मारी और गोरखपुर फरार हो गए।

नहीं मिला चोरी गया ट्रक

पूछताछ में बदमाशों ने सोनूघाट चौराहे से चोरी गए ट्रक की घटना में शामिल होने की भी बात स्वीकारी है। ट्रक को एक व्यक्ति को इन बदमाशों ने सिवान में दे दिया। सोमवार को ही यह ट्रक कहीं और भेज दिए। पुलिस ने खोज की लेकिन ट्रक नहीं मिला। पुलिस का दावा है कि संबंधित व्यक्ति की गिरफ्तारी होते ही ट्रक बरामद कर लिया जाएगा।

प्रयागराज में एक ही दिन चुराए पांच लग्जरी वाहन

बरामद लग्जरी कार के साथ ही पांच लग्जरी कार यह प्रयागराज से एक ही दिन में चुरा लिए थे। साथ ही बिहार में लाकर नंबर प्लेट बदल कर चला रहे थे। पुलिस को इन बदमाशों को पकड़ने के लिए सर्विलांस का सहारा लेना पड़ा, यह चंद कदम जाने के बाद नंबर प्लेट बदल देते हैं। पुलिस अधीक्षक डाँ. श्रीपति मिश्र ने बताया कि बदमाशों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की जाएगी। एसओजी टीम को बेहतर कार्य करने के लिए पुरस्कृत किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button