जमीनी विवाद में व्यवसायी की पीटकर हत्या, पांच घायल, ग्रामीणों ने थाना घेरा

मईल देवरिया। जनपद के मईल थाना क्षेत्र के बगहा गांव में जमीनी विवाद को लेकर गुरूवार की सुबह गांव के मनबढ़ो ने कपड़ा व्यवसाई की पीट-पीटकर हत्या कर दी। इस घटना में पांच लोग घायल हो गये। सभी घायलों का इलाज भागलपुर स्वास्थ्य केंद्र पर चल रहा है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना से नाराज लोग मईल थाने का घेराव करने के बाद थाने के सामने धरने पर बैठ गए हैं। धरनास्थल पर परिजनों ने मौके पर अधिकारियों को बुलाने की मांग की। परिजन पुलिस पर हत्यारों को बचाने का आरोप लगा रहे हैं।

जानकारी के अनुसार मईल थाना क्षेत्र के बगहा गांव निवासी हरिशंकर गुप्ता( 60) मईल चौराहे पर मकान बनवा कर अपनी कपड़े की दुकान चलाते थे। बुधवार को उनके परिजनों ने गांव की उनकी जमीन पर पड़ोसियों द्वारा कब्जा करने की जानकारी दी । जिस पर वह अपने बेटे के साथ गांव पहुंचे। आरोप है कि उनकी भूमि पर उनके पड़ोसी रिटायर्ड दरोगा रामायण बारी ने नाद और अन्य समान तोड़ते हुए अपनी दिवाल चलवा लिया था। उन्होंने इसका विरोध किया तो वह आक्रोशित हो गए। आसपास के लोगों ने समझा-बुझाकर मामला शांत करा दिया। गुरूवार की सुबह पड़ोसी रिटायर्ड दारोगा 10-12 लोगों के साथ लाठी-डंडे से लैस होकर हरिशंकर के घर पर हमला कर दिए। हमलावर हरिशंकर को लाठी-डंडों से पीटने लगे, यह देखकर परिवार के सदस्य उन्हें बचाने आए तो हमलावरों ने उन्हें भी मारपीट कर घायल कर दिया। परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, लेकिन पुलिस मौके पर करीब दो घंटे बाद पहुंची।

हमलावरों की पिटाई से हरिशंकर गुप्ता की मौत हो गई । वही उमाशंकर (54) पुत्र हीरा, संतोष गुप्ता (41 ) पुत्र हरिशंकर, विपुल (24) पुत्र उमाशंकर , प्रमोद (36 ) पुत्र हरिशंकर और उमा शंकर की पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गई। आसपास के लोग और परिजन ने घायलों को स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। करीब दो घंटे बाद पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसके बाद आक्रोशित ग्रामीण थाने पहुंचे और पुलिस पर गंभीर व लापरवाही का आरोप लगाते हुए थाने का घेराव करते हुए थाने के सामने मईल-मुसैला मार्ग पर धरने पर बैठ गए। ग्रामीण उच्चाधिकारियों को बुलाने और अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। परिजनों का आरोप है कि हत्यारोपी रिटायर्ड दरोगा है। और इसी कारण मईल पुलिस उसके सहयोग में खड़ी रहती है। पिछले एक माह में कई बार विवाद हो चुके हैं। जिसकी सूचना थाने को दी गई थी, लेकिन पुलिस ने रिटायर्ड दरोगा के दबाव में कोई कार्रवाई नहीं की। जिससे मनबढ़ो का मन बढ़ गया और उन लोगों ने आज हत्या कर दी ।

वही मृतक व्यवसायी के भाई उमाशंकर ने मईल एसओ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि दो माह पूर्व बरहज एसडीएम का इस मामले का निस्तारण करने के लिए मईल एसओ को निर्देशित किया गया था, रोजाना थाने का चक्कर लगा रहे थे। इसके बाबजूद मईल एसओ इसकी गंभीरता को समझ नही रहे थे। इस घटना के बाद मौके पर पहुंचे एडीशनल एसपी शिष्यपाल ने मामले की गंभीरता एवं मामले को बढ़ता देखकर पीड़ित परिवार को न्याय का आश्वासन दिया। लेकिन ग्रामीण व परिवार के सदस्य सुनने को तैयार नही हुए। इस मामले में सीओ बरहज दिनेश सिंह यादव ने बताया कि नाराज व आक्रोशित भीड़ को समझाया गया व आरोपितों पर कार्यवाही का भरोसा दिलाया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button