अंतराष्ट्रीय बाल उत्सव में हुनर दिखाने का सुनहरा अवसर

देवरिया । जिले के युवा ग़ज़लकार सिद्धान्त दीक्षित ने बताया कि पिछले 20 वर्षों से लगातार ग़रीब बच्चों की पढ़ाई से लेकर उनके सामाजिक जीवन के उत्थान के लिए कार्य कर रही संस्था सर्च फ़ाउंडेशन लगातार 20 वर्षों से बाल उत्सव नाम से तीन दिवसीय कार्यक्रम राजधानी लखनऊ में कराती आ रही है। जिसमें कई प्रतिष्ठित स्कूलों से लेकर स्लम बस्ती के बच्चे तक प्रतिभाग करते हैं, इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते अंतराष्ट्रीय बाल उत्सव ऑन लाइन किया जा रहा है, जिसमें पूरे विश्व से भारतीय मूल के बच्चे प्रतिभाग कर रहे हैं । और सर्च फ़ाउंडेशन के संस्थापक और इस कार्यक्रम के हेड प्रसिद्ध हास्य कवि सर्वेश अस्थाना ने जानकारी दी। बाल उत्सव के द्वारा हमारा लक्ष्य है कि कोरोना में बच्चों की रचनात्मकता को उड़ान देने के लिए इसे ऑनलाइन किया गया है,।

इस प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तिथि 15 दिसम्बर है। उसके बाद रिज़ल्ट घोषित कर बच्चों को पुरस्कार दिए जाएँगे। 15 सितम्बर के बाद से अब तक लगभग 25000 बच्चों की एंट्री आ चुकी है । हमारा लक्ष्य 5 लाख बच्चों का है, यह आज तक भारत देश का बच्चों को लेकर पहला सबसे बड़ा उत्सव है , सर्च फ़ाउंडेशन की वेबसाइट  पर जाकर बच्चे प्रतिभाग कर सकते हैं। इस प्रोग्राम कक्षा 1-12 तक बच्चों हेतु 40 तरह के प्रोग्राम है। जिसकी सूची इस वेबसाइट पर है और जिसकी मात्र 50 रुपये की मामूली पंजीकरण शुल्क है। जिसकी सारी प्रक्रियाए ऑनलाइन हैं । सिद्धान्त दीक्षित ने बताया कि इस बड़े प्रोग्राम में अपने जिले की प्रतिभा की उपस्थिति हेतु बाल उत्सव के प्रोग्राम में सम्पर्क हेतु बरहज के प्रमुख स्कूल जीवन शैली पब्लिक स्कूल बरहज, विश्वनाथ त्रिपाठी शिक्षण संस्थान बरहज, इन्द्रासन सिंह पब्लिक स्कूल,बरहज एस जी ग्लोबल स्कूल बड़का गांव सहित 6 विद्यालयों में सम्पर्क कर चुके हैं और आगे भी बाक़ी विद्यालयों में सम्पर्क करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button