फंदे से लटक कर युवक ने दी जान, कार्यो के दबाव से तनाव में आ कर उठाया यह कदम

देवरिया। देवरिया सदर कोतवाली क्षेत्र में एक युवक ने फंदे से लटक कर अपनी जान दे दी है। मृतक युवक सजावट का कार्य करता था, कार्यो के दबाव से वह तनाव में था। मिली जानकारी के मुताबिक सदर कोतवाली क्षेत्र के लकड़ी हट्टा स्थित गोदाम में एक युवक ने फंदे से लटक कर अपनी जान दे दी है। मृतक युवक शहर के न्यू कालोनीं निवासी संतोष शर्मा (35) पुत्र शालिग्राम शर्मा शादी विवाह एवं अन्य आयोजनों में डेकोरेशन का काम करता था। वह डेकोरेशन की बुकिंग लगन शुरू होने के पहले करता था। लगन में अपने सजावट को ले जाकर वह शादी वाले घरों में अपनी सजावट करता था।

अप्रैल- मई-जून की सभी लगनों को लोगो ने लाँकडाउन की वजह से टाल कर नवम्बर, दिसंबर में रख दिया था। लाँकडाउन होने के कारण इधर नवम्बर, दिसंबर की सभी लगनें तेज भी है। और लगन तेज होने के कारण संतोष के पास सजावट का काम अधिक भी था, कार्य की अधिकता का मानसिक तनाव उसके उपर हाबी हो गया था। जानकारी के अनुसार सोमवार को संतोष के उपर कार्य पूरा करने का दबाव बनाया गया। दबाव के कारण वह अत्यधिक तनाव में आ गया। सोमवार की शाम को वह अपने घर से बाहर निकला, थोड़ी देर बाद उसका मोबाइल बंद हो गया। घर वालों के द्वारा लगातार फोन करने पर मोबाइल स्विच आँफ बताने लगा।

फोन द्वारा संपर्क नही होने पर परिजनों ने उसकी तलाश शुरू कर दी। संतोष के मित्र भी उसकी तलाश करनी शुरू कर दिए। काफी खोजने के बाद भी संतोष का कही पता नही चल सका। इसकी सूचना परिजनों ने कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस ने संतोष के मोबाइल को सर्विलांस पर लगा दिया। थोड़ी देर बाद पुलिस को संतोष का लोकेशन शहर के बिजय टाकीज के पास का मिला। लोकेशन मिलने पर पुलिस की टीम उस गोदाम के पास पहुंची, एक व्यक्ति उस गोदाम के अंदर गया तो उसके होश उड़ गये। उसने देखा की गोदाम के टीन शेड के पाइप से कपड़ो के सहारे संतोष फंदा लगाकर लटका हुआ है। उसनेइसकी सूचना मित्रो व परिजनों को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। घटना की सूचना मिलने पर परिजनों में चीख पुकार मच गयी। मृतक संतोष तीन भाईयों में सबसे बडा.था। वही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है।

किसी अधिकारी के तिलक में लिया था सजावट का कार्य, कार्य के प्रति दबाव एवं तनाव में आकर उठाया यह कदम

बताया जा रहा है की किसी अधिकारी के तिलक में संतोष सजावट का कार्य लिया था।  उस कार्य को पूरा करने के लिए उसके उपर दबाव बनाया गया था। कार्य के पुरा होने के दबाव एवं तनाव में आकर संतोष ने यह कदम उठाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button