कोविड-19-जनपद में पुनः पूर्व की भांति निगरानी समिति सक्रिय व गठित किए जाने का निर्देश

देवरिया। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के नियंत्रण निगरानी हेतु जनपद में पुनः पूर्व की भांति निगरानी समिति सक्रिय व गठित किए जाने का निर्देश दिया है, इसके लिए वे नोडल अधिकारी नामित करते हुए निर्देशित किया है कि 3 के अंदर निगरानी समिति गठित कर उसकी आख्या प्रस्तुत करेंगे, इसमें किसी प्रकार की शिथिलता नही बरतेंगे।
ग्रामीण क्षेत्रों में इस कार्य के लिए जिला विकास अधिकारी तथा शहरी क्षेत्र के लिए एडीएम प्रशासन को नोडल अधिकारी नामित किया है। ग्राम पंचायतों के निगरानी समिति में संबंधित ग्राoपं0 के प्रशासक, ग्राम सचिव, आशा, कार्यकत्री, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, रोजगार सेवक, लेखपाल, कोटेदार, सफाईकर्मी एवं स्वच्छाग्रही इस समिति के सदस्य होंगे। शहरी क्षेत्र के इस समिति में अधिशासी अधिकारी, वार्ड मेंबर, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, लेखपाल व कोटेदार समिति में सदस्य होंगे। जिलाधिकारी ने निगरानी समिति के सदस्यों को अपने संबंधित क्षेत्रांतर्गत यथा ग्राम पंचायतों तथा वार्डो में बाहर से आए प्रवासी तथा कोरोना वायरस से ग्रसित मरीजों की निगरानी प्राथमिकता के साथ सुनिश्चित करेंगे।

देवरिया। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने कोविड़ वैक्सिनेशन तथा टेस्टिंग हेतु चल रहे सैम्पलिंग कार्यों का जायजा लिए जाने हेतु उप जिलाधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार तथा बीडीओ को लगाकर सभी वैक्सिनेशन तथा सैंपलिंग केंद्रों का निरीक्षण कराया। उनके द्वारा इन सभी अधिकारियों को चेकलिस्ट अनुसार भ्रमण कर जो भी कमियां हो उसे सायं तक उपलब्ध कराए जाने का निर्देश दिए गए, जिससे कि कमियों को दूर कराया जा सके तथा वैक्सिनेशन तथा टेस्टिंग का प्रतिशत जनपद में बढ़ सके। ज्ञातव्य है कि जनपद में कुल 101 केंद्रों पर टीकाकरण तथा 18 केद्रो पर टेस्टिंग का कार्य वर्तमान समय में संचालित है, इन सभी का निरीक्षण अधिकारियों को लगाकर कराया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button