खुशी हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश ,आरोपी की बहन से मृतका के भाई का था प्रेम प्रसंग

– दोनो आरोपियों ने कई राज उगले , हत्या में प्रयुक्त हथियार हुआ बरामद , आरोपी अपने साथी के साथ मिल कर की थी खुशी की हत्या

मदनपुर, देवरिया। करीब एक माह से पुलिस के लिए चुनौती बना जिले का चर्चित खुशी हत्याकांड का शुक्रवार को मदनपुर पुलिस और एसओजी ने खुलासा कर दिया। पकड़े गए गांव के ही दो आरोपियों ने खुशी की हत्या की थी। खुशी के भाई का आरोपी की बहन से प्रेम प्रसंग था, जिसके चलते आरोपी ने अपने साथी के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया था। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त धारदार हथियार को भी बरामद कर लिया है। देवरिया जनपद का चर्चित खुशी हत्याकांड का शुक्रवार को मदनपुर थाने में अपर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि 23 फरवरी को मदनपुर थाना क्षेत्र के भिटहां गांव के बागीचे में इसी गांव किशोरी खुशी चौहान की हत्या कर शव को फेंक दिया गया था। मदनपुर पुलिस ने इस मामले में उसके पिता की तहरीर पर अज्ञात लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया था।

घटना के खुलासे में जुटी पुलिस टीम को शुक्रवार की सुबह अहम सुराग मिला तो मदनपुर थाना क्षेत्र के कुसुमा गांव के पास से दो युवको को गिरफ्तार किया। दोनों की पहचान मदनपुर थाना क्षेत्र के भीटहां गांव निवासी सुनील चौहान और परमहंस चौहान के रूप में हुई। पुलिस ने खुशी हत्या कांड के बारे में जब सुनील चौहान से पूछताछ किया तो उसने हत्या का राज उगल दिया। सुनील ने पुलिस को बताया कि उसकी बहन का 2 वर्ष पूर्व मृतका के भाई से प्रेम संबंध था। इस बात को लेकर विवाद हुआ तो खुशी का भाई गुजरात नौकरी करने चला गया था। घटना से दो माह पूर्व खुशी का भाई गांव आया था। जिससे पुरानी बातों को लेकर गांव में एक बार फिर चर्चा होने लगी। इसको लेकर उसके मन में आक्रोश भड़क गया और बदला लेने की नीयत से उसने खुशी को ही मार डालने की योजना बना लिया।

घटना के दिन गांव के बाहर अकेले घास काटने के लिए खुशी गई थी तो मुझे जानकारी मिली। अपने साथी परमहंस चौहान के साथ दाव लेकर गेहूं के खेत में पहुंचा और गला रेत कर हत्या कर दिया। हम लोगों द्वारा वहां से जाते वक्त गांव के पास मार्ग के किनारे खोदी गयी पाइप लाईन की नाली में धारदार हथियार को छुपा दिया गया। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त धारदार हथियार को बरामद कर लिया है। घटना का खुलासा करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक मदनपुर प्रभूदयाल सिंह, दरोगा संतोष कुमार यादव, अरविंद कुमार आदि पुलिसकर्मी रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button