मासूम के इलाज में 22 करोड़ की जरूरत,मां प्रियंका के नहीं रूक रहे है आंसू

मासूम कवि के इलाज में 22 करोड़ रूपये खर्च की जानकारी होने से परिवार पर वज्रपात ,सोशल मीडिया के माध्यम से लोगो से कि गयी अपील .

देवरिया। देवरिया में एक माता पिता को अपने चार माह के मासूम के इलाज में जब 22 करोड़ रुपये खर्च होने की जानकारी हुई तो मासूम बच्चे के मां बाप पर वज्रपात गिर गया। उस मासूम बच्चे के माँ बाप हिम्मत नहीं हारे हैं। उस मासूम बच्चे की जिंदगी बचाने के लिए आम लोगों से लेकर परिजनों ने प्रधानमंत्री व उप्र.के मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है। अगर इस मासूम के इलाज के लिए आम लोग भी मदद करें तो मासूम का इलाज हो सकेगा।

देवरिया शहर के न्यू कालोनी निवासी युवक मोहित गुप्ता पुत्र कृष्ण शंकर गुप्ता अलीगढ़ जिले में विद्युत विभाग के विद्युत उत्पादन इकाई में सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। करीब दो साल पहले उनकी शादी प्रियंका गुप्ता से हुई। पांच दिसंबर 2020 को प्रियंका ने देवरिया शहर के एक नर्सिंग होम में मासूम को जन्म दिया। बच्चे का नाम परिजनों ने प्यार से कवि रखा। करीब दो माह तक तो सब कुछ ठीक रहा। लेकिन तीसरे माह में जब मासूम कवि के सिर व पैर ने हरकत बंद किया तो मोहित व प्रियंका उसको लेकर देवरिया के बाल रोग विशेषज्ञ डा. प्रमोद त्रिपाठी के पास ले गए।

डाँ. प्रमोद त्रिपाठी ने शुरूआती दौर में ही मासूम कवि को दिल्ली में दिखाने की राय दी। इसके बाद भी परिजनों का मन नहीं माना तो उस मासूम को गोरखपुर में दो चिकित्सकों को दिखाया। उन्होने भी दिल्ली जाने की राय दी। उसके बाद मासूम कवि को लेकर मोहित व प्रियंका ने दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में चिकित्सक का दिखाया तो चिकित्सकों ने जांच कराई। उसमें स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी नामक बीमारी की पुष्टि हुई। सर गंगाराम अस्पताल के डाक्टरों ने बताया कि इस बीमारी का इलाज मात्र एक इंजेक्शन है, जो अमेरिका (यूएसए) से मंगाना पड़ेगा। इस इंजेक्शन को दो वर्ष के अंदर ही लगना है, जिसकी कीमत 22 करोड़ रुपये है, यह सुनते ही सभी रोने लगे। इसकी जानकारी रिश्तेदारों व मित्रों को दी।

क्राउड फंडिग का आया विचार

चितित मोहित व उनकी पत्नी के मन में धन इकट्ठा करने के लिए क्राउड फंडिग का विचार आया। इंटरनेट मीडिया में शेयर किया। अभी तक दोस्तों व अन्य लोगों से करीब सात लाख रुपये चार दिन पहले तक आए हैं।

मुंबई व गुजरात इस बिमारी से पीड़ित मासूमों के स्वजनों से मिली ताकत

मासूम कवि के पिता मोहित ने बताया कि मुंबई में तीरा कामत नामक बच्चे को यही बीमारी है। उसके परिवार के लोग क्राउड फंडिग से 22 करोड़ रुपये इकट्ठा कर इलाज करा रहे हैं। मोहित ने इनके परिवार से इंटरनेट मीडिया के जरिए संपर्क किया। उन्होंने इसकी जानकारी दी। उनका बच्चा ठीक हो रहा है। इसी तरह से गुजरात के धैर्य भी इसी रोग से पीड़ित है। उनके पिता से बात हुई है, उन्होंने अभी तक 16 करोड़ रुपये इकट्ठा किए हैं। उनसे भी ताकत मिली है।

मां प्रियंका के नहीं रूक रहे है आंसू

मां प्रियंका मासूम कवि को लेकर रात-दिन रो रही हैं। वह कहती हैं इतना पैसा कहां से आएगा। अब तो केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भरोसा है। अन्य लोग भी आगे आ रहे हैं लेकिन इतना पैसा कैसे आएगा। यहीं सोचकर नींद नहीं आ रही है। पिता मोहित कहते हैं कि अंतिम दौर तक वह लोगों से मदद मांगेगे। यदि लोग 100-100 रुपये भी दें तो 15 करोड लोगों की मदद से कवि को बचाया जा सकेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button