बिना क्यू० आर० कोड वाले फुटकर उर्वरक विक्रेताओं का निरस्त होगा उर्वरक लाइसेन्स

देवरिया। माह अप्रैल 2021 से उर्वरकों पर मिलने वाले अनुदान सीधे कृषकों के खाते जाएगा। जिसके लिए कृषि निदेशक, उत्तर प्रदेश, लखनऊ व भारत सरकार रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, उर्वरक विभाग के जनपद के समस्त फुटकर उर्वरक बिक्री केन्द्रो पर कृषको द्वारा उर्वरक क्रय करने के लिए कैशलेस डिजिटल भुगतान प्रणाली के कियान्वयन के निर्देश दिए गये है।
जिला कृषि अधिकारी मुहम्मद मुजम्मिल ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि समस्त फुटकार उर्वरक विक्रेताओं को डिजिटल प्रणाली अपनाने हेतु QR code जनरेट कराना अनिवार्य है। उन्होंने जनपद के समस्त फुटकर उर्वरक व्यवसायियों को अवगत कराया है कि अपने प्रतिष्ठान पर आने याले सभी कृषकों से डिजिटल लेन देन करने हेतु अपना QR code 15 फ़रवरी 2021 तक अनिवार्य रूप से जनरेट करा ले। अगर जिन फुटकर उर्वरक विक्रेता के द्वारा QR code जनरेट नही कराया जाता है तो उसकी उर्वरक आपूर्ति बाधित करते हुए उनका उर्वरक लाइसेन्स निलम्बित/निरस्त कर दिया जाएगा। 15 फरवरी के बाद अभियान चलाकर छापेमारी की जाएगी और उस दौरान अगर किसी फुटकर उर्वरक विक्रेता के पास क्यूआर कोड नही पाया जाता है तो उसके विरुद्ध विधि संगत कार्यवाही करते हुए उसका उर्वरक लाइसेन्स निलम्बित / निरस्त कर दिया जाएगा। सभी फुटकर उर्वरक विक्रेता जिनको डिजिटल प्रणाली के अन्तर्गत QR code जनरेट कराने में परेशानी हो रही है वो अपने थोक उर्वरक व्यवसायियों से सम्पर्क स्थापित कर तत्काल क्यू0आर0 कोड जनरेट करा कर उसकी सूचना मेरे कार्यालय को उपलब्ध करा दे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button