तिरंगे में लिपटे जवान का शव गांव पहुंचा, बोली बेटी- किसके सहारे रहेगे हम

इलाज के दौरान एसएसबी जवान की मौत

देवरिया। एसएसबी जवान की असम में इलाज के दौरान मौत हो गयी। चार दिन बाद तिरंगे में लिपटा जवान का शव जब पैतृक गांव पहुंचा तो जवान के घर व गांव से लेकर पूरे इलाके में कोहराम मच गया। परिवार के लोगों की चींख पूकार से वहां उपस्थित सभी की आंखे नम हो जा रही थी। जवान के अंतिम दर्शन के लिए गांव व आसपास के इलाके के हजारों की भींड जुट गई। सदर कोतवाली के करौंदी पुलिस चौकी क्षेत्र के बरईठा निवासी कुबेरनाथ ठाकुर (50) पुत्र स्व.शिवशरण ठाकुर सशस्त्र सीमा बल के प्रथम वाहिनी में आरक्षी के पद पर गुवाहाटी (असम) के सोनापुर में तैनात थे। कुछ दिन पहले उनका स्वास्थ्य खराब हो गया जिसके कारण उनको जीएनआरसी अस्पताल गुवाहाटी में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान 24 दिसंबर को जवान कुबेरनाथ का निधन हो गया।

असिस्टेंट कमांडेंट राजकुमार सिंह सैनिकों के साथ जवान के पार्थिव शरीर को लेकर रविवार को गांव पहुंचे। तिरंगे में लिपटे जवान का अंतिम दर्शन करने के लिए इलाके के कई गांवों के लोग एवं राजनीतिक दलों के नेता पहुंच गये। जवान का शव आते ही पत्नी उमरावती देवी, बेटियां सुमन, पूजा,सुनिता,अनिता व इकलौते बेटे दुर्गेश शव से लिपटकर रोने लगे। परिजनों को ढाढस बंधाने पहुंची महिलाएं भी परिजनों के बिलखते देख अपने आंसुओं को रोक न सकी। वहां उपस्थित सभी की आंखे परिजनों के विलाप से नम हो गयी। जवान का अंतिम संस्कार छोटी गंडक नदी के सिसवा घाट पर पूरे सैनिक सम्मान के साथ हुआ। इकलौते बेटे दुर्गेश कुमार ने अपने पिता को मुखाग्नि दिया। इस दौरान रामपुर कारखाना विधायक प्रतिनिधि डाँ.संजीव शुक्ल, रामनिवास पांडे, रिंकू पांडे, सपा नेता उमेश नारायण शाही, लालजी यादव, सुरेन्द्र चौरसिया, पवन गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

बेटी की शादी का सपना अधूरा रह गया

एसएसबी जवान कूबेरनाथ ठाकुर की चार बेटियां और एक बेटा है। बेटा सबसे छोटा है। जवान अपनी तीन बेटियों की शादी कर चुके थे। छोटी बेटी पूजा की शादी के लिए रिश्ता देख रहे थे। छुट्टी पर आने के बाद इस बार शादी तय करना था लेकिन सपना धरा का धरा रह गया। ईश्वर को कुछ और मंजूर था, छोटी बेटी पूजा ने रोते बिलखते हुए कहा कि हमको पापा सबसे ज्यादा प्यार करते थे, अब हम किसके सहारे जिऐगे। मां और बेटे का रो रोकर बुरा हाल हो गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button