फंदे से लटककर युवक ने दे दी जान, पत्नी के मायके जाने के कारण मानसिक तनाव में था

नशे का आदि था मृतक, पत्नी पिटाई के बाद चली गई थी मायके

खुखुन्दू, देवरिया। जिले के खुखुन्दू थाना क्षेत्र के खुखुन्दू गांव में एक युवक ने शनिवार की देर रात अपने कमरे में फंदा लगाकर अपनी जान दे दी । युवक नशे का आदि था। दो माह पहले नशे की हालत में ही उसने अपनी पत्नी की जमकर पिटाई कर दी थी। काफी चोट लगने से पत्नी मायके चली गई। इसके बाद युवक मानसिक तनाव में था। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना के बाद पत्नी और बच्चे बदहवास हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक, खुखुन्दू गांव निवासी जितेंद्र कुमार शर्मा (32) पुत्र चोकट शर्मा मजदूरी का काम करता था। वह नशे का आदि था। नशे की हालत में अक्सर अपनी पत्नी रिंकू देवी और बच्चों को मारता- पिटता था। घरवालों के मुताबिक तकरीबन दो-ढाई माह पहले जितेंद्र शराब पीकर घर पहुंचा और पत्नी रिंकू की बेरहमी से पिटाई कर दी। जिससे वह काफी चोटिल हो गई। जितेंद्र उसका इलाज नहीं करा रहा था। इसके बाद मायके वाले रिंकू को बुला लिए। वह बच्चों के साथ मायके में रह रही थी। रक्षाबंधन पर्व पर एक दिन के लिए रिंकू ससुराल आई और फिर चली गई। हालांकि रिंकू कुछ दिनों बाद पति जितेंद्र से मोबाइल फोन पर बात करने लगी। घटना के दिन भी दोनों से बातचीत हुई थी। रात को रिंकू फिर से बात करने के लिए फोन करने लगी। लेकिन जितेंद्र का फोन नहीं उठा। फिर उसने पड़ोसी के नंबर पर फोन कर देखने के लिए कहा।

इस दौरान पता चला कि जितेंद्र अपने कमरे की कुंडी अंदर से बंद कर रखा है। अनहोनी की आशंका पर ससुराल वाले यहां पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने कुंडी तोड़कर देखा तो शव पंखे से लटका हुआ है। पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतरवाया। थानाध्यक्ष नवीन चौधरी ने कहा कि पत्नी से अनबन होने से मानसिक तनाव में आकर युवक ने आत्महत्या किया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

मजदूरी पर जा रहा हूं, शाम को राशन भर लूंगा फिर आ जाना

नशे का आदि होने के बावजूद भी जितेंद्र पत्नी और बच्चों से बहुत ही प्यार करता था। नशा उतरते ही वह सबसे पहले पत्नी और बच्चों को ही ढूंढ़ता था। घटना से पूर्व सुबह में ही उसने पत्नी रिंकू से काफी देर तक मोबाइल फोन पर बात की और कहा कि मजदूरी करने जा रहा हूं। शाम को राशन भर ले रहा हूं। इसके बाद तुम बच्चों को लेकर आ जाओ और फिर मुझे छोड़कर मत जाना। मगर होनी को कुछ और ही मंजूर था। आखिरकार मानसिक तनाव और नशे के चलते उसने आत्महत्या कर लिया।

मृतक युवक के तीन बच्चे अजीत (09), शिवम (07), मृत्युंजय (05) हैं। वह नशे की हालत में पत्नी की पिटाई तो कर दिया था। मगर जब पत्नी मायके चली गई तब से वह काफी तनाव में रह रहा था। लेकिन फिर भी मोबाइल फोन से वह रोजाना शाम को रिंकू से बातचीत करता रहता था। दो- तीन दिन से जब भी वह बात करता था तो रिंकू को घर आने के लिए बोलता था, साथ ही यह भी कहता था कि बच्चों को लेकर आ जाओ अब नहीं मारेगें।

रिंकू का कहना है कि मैं बोली थी ठीक है, मारेंगे नहीं तो आ जाउंगी। बातचीत के मुताबिक रविवार को ही रिंकू बच्चों के साथ आने वाली थी। मगर नियति को कुछ और ही मंजूर था। घटना के बाद मां ज्योति देवी, पिता चोकट, पत्नी रिंकू और बच्चे बदहवास हैं। रिंकू को अब बच्चों की परवरिश की चिंता सता रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button