उत्तरप्रदेश – 28 विदेशी कंपनियां 9357 करोड़ का करेंगी निवेश

37 हजार 144 करोड़ का निवेश के लिए 29 घरेलू कंपनियों ने किया करार . कोरोना काल में भी विदेशी उद्यमियों की पहली पसंद बना यूपी .

लखनऊ। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर विश्व के तमाम देश मंदी से जूझ रहे थे, ऐसे समय में भी उत्तरप्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की पहली पसंद यूपी बना रहा। कोरोना काल के दौरान देशी-विदेशी 57 कंपनियों ने 46 हजार 501 करोड़ रुपए के निवेश के लिए प्रदेश सरकार से करार किया है। इन कंपनियों में उत्पादन शुरू होने पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की सत्ता संभालने के बाद से ही यूपी का खोया रुतबा वापस लाने के लिए रणनीति के तहत काम शुरू किया। उन्होंने सबसे पहले राष्ट्रीय स्तर का इंवेस्टर समिट आयोजित किया, जिसमें प्रधानमंत्री से लेकर देशी-विदेशी कई कंपनियों के मुखिया शामिल हुए। इसके बाद पहली और दूसरी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी भी की। मुख्यमंत्री की इस रणनीति का परिणाम अब धरातल पर दिखने लगा है।  प्रदेश में सिर्फ कोरोना काल में 28 विदेशी कंपनियों ने 9357 करोड़ रुपए के निवेश के लिए करार किया है। इसमें एक जूता बनाने वाली कंपनी ऐसी है, जो चीन से शिफ्ट होकर भारत आई है और तीन सौ करोड़ के निवेश से आगरा में उत्पादन शुरू कर दिया है। इसके अलावा 37 हजार 144 करोड़ रुपए का निवेश करने के लिए घरेलू 29 कंपनियों ने करार किया है।

ये हैं निवेश करने वाली विदेशी कंपनियां

प्रदेश में निवेश के लिए 1746 करोड़ के निवेश से कनाडा की दो कंपनियां, तीन सौ करोड़ के निवेश से जर्मनी की चार कंपनियां, एक हजार करोड़ के निवेश से हांगकांग की एक कंपनी, दो हजार करोड़ के निवेश से जापान की सात कंपनियां, 16 सौ करोड़ के निवेश से सिंगापुर की दो कंपनी, 13 सौ 75 करोड़ के निवेश से यूनाईटेड किंगडम की तीन कंपनियां, 309 करोड़ के निवेश से यूएसए की पांच कंपनियां, 928 करोड़ के निवेश से कोरिया की चार कंपनियों ने प्रदेश सरकार से करार किया है।

उद्यमियों की पहली पसंद बना यूपी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न विभागों की नीतियां बनाने से लेकर श्रम कानूनों में दर्जनों सुधार किए। जिस वजह से देश में ईज ऑफ डूइंग में प्रदेश दूसरे पायदान पर पहुंच गया है। यह वजह है कि देश में उद्यमियों की पहली पसंद यूपी बन गया है।

सीएम ने दिए दो माह के अंदर उद्यमियों को कब्जा दिलाने के निर्देश

कोरोना काल में उद्यमियों को साढ़े आठ सौ प्लॉट आवंटित किए गए हैं। इसके अलावा यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे सेक्टर 28 में साढ़े तीन सौ एकड़ में डेडिकेटेड मेडिकल डिवाइस पार्क प्रस्तावित है, जिसके लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने के लिए कलाम इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ टेक्नोलॉजी के साथ एमओयू किया गया है। मुख्यमंत्री ने दो माह के अंदर सभी उद्यमियों को भौतिक रूप से कब्जा दिलाने के निर्देश दिए हैं, ताकि जल्द से जल्द प्रोजेक्ट धरातल पर उत्पादन शुरू कर सकें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button